क्या ग्रह भी हो सकते हैं जिम्मेदार आपके गलत फैसलों के ? Reason for weak determination

ओम नमः शिवाय,
सज्जनों,

आज के इस एपिसोड में हम जानेंगे कि ऐसी कौन सी ग्रह चाल ग्रहों की युति या किस राशि में, किस स्थान पर कौन ग्रह बैठा हुआ हो कि जिससे व्यक्ति की निर्णय शक्ति का ह्रास होता है ? उसकी निर्णय शक्ति भ्रमित होती है और उसके द्वारा लिए गए लगभग सभी डिसीजन से उसे असफलता मिलती है। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से।

Can the planets be responsible for your wrong decisions? Let us know reason of weak or wrong determination …

प्रतिदिन ज्योतिष से संबंधित नया वीडियो पाने के लिये हमारा यूट्यूब चैनल https://www.youtube.com/c/ASTRODISHA सबस्‍क्राइब करें। इसके अलावा यदि आप हमारी संस्था के सेवा कार्यों तथा प्रोडक्ट्स से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्‍त करना चाहते हैं तो आप हमारी बेवसाइट https://www.astrodisha.com/ पर जा सकते हैं और अगर आपको कुछ पूछना है तो आप हमें help@astrodisha.com पर मेल कर सकते है।
Contact – +91-7838813444, +91-7838813555,
+91-7838813666, +91-7838813777
Whats app – +91-7838813444
Email – help@astrodisha.com
Website – https://www.astrodisha.com
Facebook – https://www.facebook.com/AstroDishaPtSunilVats/

Share this Post!

About the Author : Pandit Sunil Vats

2 Comments

  1. Kuldeep June 29, 2019 at 12:05 pm - Reply

    My name Kuldeep,

    Date of birth – 03-10-1983
    Time- 1.00 am
    Place – gharwal Srinagar

    Mujko janana hai mera koun sa grah marak hai aur koun sa Accha hai,
    Self confidence mai kami hai.
    Mind mai confusion rahta hai.
    Har samay kuch na kuch sochta rahta hu.
    Har Koi jaldi Hart kar jata hai.
    Thank you

    • Pandit Sunil Vats December 8, 2019 at 5:23 pm - Reply

      श्रीमान जी
      आपकी कुंडली के अनुसार मंगल, शुक्र, बुध तीनों ही ग्रह मारक हैं। बाकी लगभग सभी ग्रह अच्छे हैं। हालांकि कुछ मात्रा में तो यह तीनों ग्रह भी अच्छे हैं। परंतु मारक की श्रेणी की यदि बात की जाए तो इनमें से सबसे ज्यादा मंगल ही मारक ।है बाकी के दो ग्रह तो सौम्य है। वैसे कई चीजों के अनुसार से आपकी कुंडली काफी अच्छी है। आपका जन्म कर्क लग्न में हुआ है। कर्क लग्न से संबंधित व्यक्ति काफी भावुक होता है। आपका वैसे भी चंद्रमा लग्न में बैठा हुआ है। जो दोष आपने बताएं हैं।
      कंसंट्रेट ना कर पाना ,जल्दी दुखी हो जाना, दिमाग में चीजें बहुत अधिक मात्रा में चलते रहना। उसका कारण यह है कि आपका लग्न निर्बल है। आपका लग्न केवल 8 डिग्री का है और आपका जन्म आष्लेषा नक्षत्र के तीसरे चरण में हुआ है। अर्थात आपका जन्म गंड मूल नक्षत्र में हुआ है। आपको इनके उपाय करने से राहत अवश्य प्राप्त होगी चंद्रमा को और बलि बनाना चाहिए अर्थात साउथ सी का सुच्चा मोती आपको अपने वजन से लगभग 3 कैरेट अधिक वजन का लेकर धारण करना चाहिए।
      हर हर महादेव
      पंडित सुनील वत्स

Leave a Comment

Your email address will not be published.

WhatsApp chat