उत्पीड़न दोष उपाय मुहूर्त (सन् 2018-19)

ओम नमः शिवाय,
आप सभी का शिव साधक परिवार में स्वागत है। सज्जनों आप में से जिन – जिन लोगों ने हमारे कार्यालय से वैदिक रावण संहिता का निर्माण करवाया है और उनकी कुंडली में उत्पीड़न दोष बताया गया है। उस उत्पीड़न दोष का उपाय हालांकि कुंडली के अंदर दिया गया है परंतु यह उपाय सिर्फ चंद्र ग्रहण के मध्यकाल में ही करना होता है। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि यह दोष बहुत प्रबल होता है और यह कभी भी कटता नहीं है परंतु प्रत्येक चंद्र ग्रहण के मध्यकाल में उपाय करने से यह दोष कुछ समय के लिए दब जाता है इसीलिए इस दोष का उपाय आजीवन प्रत्येक चंद्र ग्रहण के मध्यकाल में करना होता है। यदि किसी कारणवश किसी सज्जन का यह उपाय चंद्र ग्रहण के दिन करना छूट गया हो या अभी चंद्र ग्रहण आने में काफी समय बाकी बचा हुआ हो अथवा उत्पीड़न दोष का जो अशुभ फल आपकी कुंडली में लिखा है, वह बहुत ज्यादा आपके ऊपर हावी हो रहा हो तो उस बुरे प्रभाव को दबाने के लिए यहाँ कुछ विशेष मुहूर्त यहां दिए जा रहे हैं। आप इन दिए गए मुहूर्तों में भी उत्पीड़न दोष का उपाय कर सकते हैं। यह मुहूर्त भी चंद्र ग्रहण जितना प्रभाव रखने की क्षमता रखते हैं।

उत्पीड़न दोष उपाय मुहूर्त (सन् 2018-19)

आरंभ होने का समय                                                        समाप्त होने का समय

                                                        सन् 2018

28 जनवरी सूर्योदय से                                                            28 जनवरी सुबह 8:26 तक

8 फरवरी दोपहर 1:34 से                                                       8 फरवरी रात 9:28 तक

22 फरवरी सूर्योदय से                                                            22 फरवरी रात 12:52 तक

5 मार्च दोपहर 12:11 से                                                           5 मार्च शाम 5:26 तक

19 मार्च सूर्योदय से                                                                 19 मार्च रात 1:07 तक

30 मार्च शाम 6:18 से                                                              30 मार्च रात 11:10 तक

24 अप्रैल रात 10:46 से                                                           25 अप्रैल सुबह 4:46 तक

7 मई रात 8:18 से                                                                    8 मई सुबह 5:27 तक

19 मई दोपहर 1:40 से                                                             19 मई रात 11:25 तक

24 जुलाई सुबह 8:50 से                                                          24 जुलाई रात 11:31 तक

6 अगस्त दोपहर 12:32 से                                                       6 अगस्त रात 8:01 तक

18 अगस्त सूर्योदय से                                                              18 अगस्त सुबह 8:55 तक

31 अगस्त दोपहर 3:07 से                                                      31 अगस्त रात 8:31 तक

12 सितंबर सुबह 8:53 से                                                        12 सितंबर दोपहर 1:37 तक

25 सितंबर शाम 5:24 से                                                         25 सितंबर रात 10:27 तक

8 अक्टूबर सूर्योदय से                                                              8 अक्टूबर रात 12:27 तक

21 अक्टूबर सूर्योदय से                                                            21 अक्टूबर रात 1:47 तक

2 नवंबर सूर्योदय से                                                                  2 नवंबर सुबह 8:53 तक

15 नवंबर सूर्योदय से                                                                15 नवंबर रात 1:56 तक

27 नवंबर सूर्योदय से                                                                27 नवंबर सुबह 10:15 तक

                                                          सन् 2019

18 जनवरी शाम 6:11 से                                                            19 जनवरी सुबह 7:17 तक

30 जनवरी सुबह 7:25 से                                                          30 जनवरी दोपहर 3:47 तक

24 फरवरी सुबह 9:42 से                                                          24 फरवरी दोपहर 2:44 तक

9 मार्च रात 9:34 से                                                                    10 मार्च रात 2:40 तक

21 मार्च रात 9:48 से                                                                   22 मार्च रात 1:22 तक

3 अप्रैल रात 11:13 से                                                                  4 अप्रैल रात 3:00 तक

•••••••••••••••••

 

Utpidan Dosh Upay / उत्पीड़न दोष उपाय के बारे में यह artical यदि आपको पसंद आया हो, तो इसे like और दूसरों को share करें, ताकि यह जानकारी और लोगों तक भी पहुंच सके। आप Comment box में Comment जरुर करें। इस subject से जुड़े प्रश्न आप नीचे Comment section में पूछ सकते हैं।

Share this Post!

About the Author : Pandit Sunil Vats

0 Comment

Leave a Comment

Your email address will not be published.

WhatsApp WhatsApp us